Pradeshik Cooperative Dairy Federation, Uttar Pradesh

प्रादेशिक कोआपरेटिव डेयरी फेडरेशन, उत्तर प्रदेश

त्रि-स्तरीय संरचना

अपने उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए, पी०सी०डी०एफ० व्यावसायिक ढांचा त्रि-स्तरीय कोऑपरेटिव स्ट्रक्चर के माध्यम से काम करता है जो शहरों में दुग्ध उपभोक्ताओं को ग्रामीण स्तर के दुग्ध उत्पादकों को जोड़ता है। यह त्रि-स्तरीय ढांचा निम्नवत है-

  • ग्राम स्तरीय दुग्ध सहकारी समिति- गांवों में दुग्ध समिति किसान सदस्यों से अधिशेष (सरप्लस) दूध एकत्र करती हैं। किसानों को पशु स्वास्थ्य और अन्य सहायता तथा सेवाएँ दुग्ध समितियों के माध्यम से कराई जाती हैं।
  • क्षेत्र/ मण्डल स्तरीय दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ- दुग्ध संघ अपने जिले के सभी ग्राम स्तरीय दुग्ध सहकारी समिति से दूध एकत्र करते हैं, उसे प्रसंस्करित करते हैं और उसका विपणन करते हैं। दुग्ध संघ, दुग्ध सहकारी समिति के माध्यम से किसान को सहायता और तकनीकी सेवाएँ प्रदान करता है जैसे पशु आहार का विपणन, चारा विकास कार्यक्रमों का आयोजन और अच्छी गुणवत्ता वाले चारा बीज उपलब्ध कराना।
  • राज्य स्तरीय फेडरेशन- एपेक्स फेडरेशन राज्य के जिला दुग्ध संघों को विपणन सेवाएं और अन्य सहायता प्रदान करता है। यह दुग्ध संघों को राज्य के बाहर दूध भेजने में भी मदद करता है । शासन के साथ संपर्क बनाए रखता है, योजनाओं/कार्यक्रमों का निर्माण एवं संचालन और संसाधनों को जुटाना सुनिश्चित करता है।