Pradeshik Cooperative Dairy Federation, Uttar Pradesh

प्रादेशिक कोआपरेटिव डेयरी फेडरेशन, उत्तर प्रदेश

पीसीडीएफ के बारे में

पी०सी०डी०एफ० की स्थापना राज्य में सहकारिता आधारित संगठित दुग्ध व्यवसाय के उद्देश्य से वर्ष 1962 में की गई थी। पी०सी०डी०एफ० एक ऐसा संगठन है जिसने दुग्ध व्यवसाय में वर्षों से दुग्ध उत्पादकों का शोषण करते आ रहे दूधियों के शोषण से मुक्त कराया है। इसमें दुग्ध उत्पादक और उपभोक्ता के बीच सीधा सम्पर्क स्थापित हुआ। यह प्रदेश स्तरीय शीर्षस्थ सहकारी संस्था उत्पादकों की सहभागिता से शक्ति प्राप्त करती है और उन्हें व्यवसायिक कौशल व पारम्पारिक संस्था में गतिशील व्यवसायिकता प्रदान करता है।

विगत वर्षों में पी०सी०डी०एफ० ने विभिन्न क्षेत्रों में स्वयं को विस्तारित, विविध रूपायित एवं प्रवेश किया है और नई चुनौतियों का सामना किया है। आज दिल्ली में दुग्ध आपूर्ति करने हेतु राष्ट्रीय मिल्क ग्रिड में मदर डेरी को दुग्ध उपलब्ध कराने में पी०सी०डी०एफ० का महत्वपूर्ण स्थान है।

पी०सी०डी०एफ० का योगदान केवल आंकड़ों से परिभाषित नहीं किया जा सकता है। महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि इसके दुग्ध उत्पादक धीरे–धीरे समृद्धशाली भविष्य की ओर अग्रसर हो रहे है और वर्षों से दुग्ध उपभोक्ताओं का विश्वास पराग में बना हुआ है। इसी परिपेक्ष्य में पी०सी०डी०एफ० की सफलता आंकलित की जानी चाहिए।